नव वर्ष पर निबंध व भाषण 2023 || Happy New Year Essay Speech in Hindi

आज के इस लेख में हम नव वर्ष पर निबंध व भाषण (Happy New Year Essay Speech in Hindi) पर पढ़ेंगे। देशभक्ति की भवना सभी में जाग्रत रहे और सभी का नया साल खुशियों से भरा हुआ हो यही हमारी मनोकामना हैं। जो भी बच्चा, बूढ़ा, नौजवान, लड़का या लड़की, महिला या आदमी आदि अन्य कोई भी नए साल के लिए निबंध और भाषण की तैयारी करना चाहते है उनके लिए लिखा गया हैं।

 

नव वर्ष पर निबंध व भाषण 2022 Happy New Year Essay Speech in Hindi


 

Happy New Year Essay Speech in Hindi

Happy New Year Essay Speech in Hindi के बारे में हमने कुछ नव वर्ष पर निबंध व भाषण पर लिखा है जिसे लोग इंटरनेट पर पड़ने आते है। या अपनी किसी भी तरह की परीक्षा के लिए तयारी करना चाहते हैं।

 

नव वर्ष पर निबंध 2023 (Happy New Year 2023 Essay in Hindi)

भारत वर्ष में नया साल 1 जनवरी को मनाया जाता है जो की ग्रेगोरी कैलेण्डर के अनुसार होता है। और यह सिर्फ भारत में ही नहीं अपितु सम्पूर्ण विश्व में होता हैं। और इस दिन विश्व के सभी देश नव वर्ष पर अपने परिवार , दोस्तों और प्रियजनों के साथ मिलकर नाचते हैं , गाते है, और जश्न मानते हैं और इस दिन का मज़ा उठाते हैं।

 

लोग इस दिन बहुत से मनोरंजन वाले कार्य करते है जैसे पार्टियों में जाते हैं, गाना गाते हैं, पिकनिक मनाने जाते हैं, फ़िल्में देखने जाते हैं, आदि। कई जगह पर तो 1 जनवरी या नए साल के शुरुआत के दिन बहुत से खेलों का आयोजन करवाते है। जिसे देखने बहुत से लोग जाते है।

 

कुछ ऐसा ही नजारा नए साल से एक दिन पहले यानि 31 दिसम्बर की रात के 12 बजे (जिसे न्यू ईयर ईव कहा जाता है) को भी देखने को मिलता हैं। लोग उस रात पटाखे भी फोड़ते हैं, गाना बजाते है , कई program आयोजन करवाते है और जश्न मनाते हैं

 

वही नए साल के प्रथम दिन यानी 1 जनवरी की सुबह को लोग एक दुसरे को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं, गिफ्ट देते हैं, घूमने जाते हैं, और कुछ लोग ग्रीटिंग कार्ट भी देते हैं।

 

 

नए साल के दिन हर व्यक्ति एक नयी शुरुआत करने के बारे में सोचता हैं। कुछ नयी और अच्छी बातों को या आदतों को अपनाने के बारे में सोचता है तो कोई बुरी आदतों को छोड़ने का खुद से वादा करता है।

 

नव वर्ष के दिन टीवी, रेड़िओ और सोशल मीडिया पर तरह तरह के campain चलाये जाते हैं। नए साल के दिन टेलीविज़न पर, रेडियो पर और भी अन्य प्लैटफॉर्म्स पर मीडिया चैनल वालो के द्वारा अन्य लोगों के द्वारा आयोजित प्रोग्रामों को टीवी पर टेलीकास्ट करते हैं।

 

मुंबई, बैंगलोर, दिल्ली, चेन्नई आदि बड़े-बड़े शहरों में और बड़े बड़े देशो में जैसे की कनाड़ा, अमेरिका, लंदन, ब्रिटैन लाइव कॉन्सर्ट किये जाते हैं जिनमें बॉलीवुड के सितारे और मशहूर लोग एकत्र होते हैं और कार्यक्रम में भाग लेते हैं। हजारों की तागाद में लोग उनके इन समारोह को देखने के लिए आते हैं। कुछ लोग अपने परिवार, मित्रों के साथ घर में मिलकर पार्टी मनाते हैं तो कुछ लोग बाहर घूमने जाते हैं।

 

हम सब विदा कर रहे होते हैं जो साल हमने बिता दिया। वो साल जो बहुत कुछ सीखा कर गया हैं और कह कर गया है की नया साल आया है फिर से, कुछ अच्छी शुरुआत करना।  बस हम अपने अतीत को या बीते हुए साल को हँसते-हँसते विदा करने के लिए यह सब समारोह आयोजित करतें है और ढेर सारी खुशियों, उमंगो और नयी आशाओं के साथ नए वर्ष का स्वागत करते हैं।

 

भारत में नव वर्ष के दिन यानि ग्रेगोरियन कैलंडर के अनुसार 1 जनवरी के दिन सभी सरकारी दफ्तर खुले रहते हैं, लोग व्यापार कर रहते होते हैं और सभी परिवहन की सुविधा उपलब्ध होती है। ऐसे समय में ज्यादातर मेट्रो शहर में सुरक्षा के पैमानों को बढ़ा दिया जाता है क्योंकि ऐसे समय में ज्यादा भीड़ के कारण बहुत सारी दुर्घटनाएं होने की सम्भावना होती है।

 

हर साल नए वर्ष के दिनों में गोवा, शिमला, चेन्नई आदि जैसे बड़े हॉटशॉट स्थानों में विश्व भर से पर्यटक घूमने तथा मनोरंजन के लिए आते हैं ऐसे में लोगो सुरक्षा की जरूरत बहुत ज्यादा होती है। परंतु हाल ही में हुए कोरोना वायरस इन्फेक्शन (COVID19) के बाद पर्यटन और पार्टी में कई हद तक रोक लगाई गई गई है।

 

कोरोना वायरस इन्फेक्शन (COVID19) के कारन से पर्यटन आगमन और पार्टी मनाने पर काफी हद तक रोक लगा दी गयी थी। परंतु कोरोना के वैक्सीन के आने के बाद नव वर्ष में फिर से खुशियां लौट आयी है और हम सब उत्साह के साथ नव वर्ष का जश्न मनाएंगे।

 

परंपरागत रूप से भारत में नए वर्ष को 1 मार्च के आस पास (चैत्र माह की प्रथमा तिथि को) को मनाया जाता है जो भी भारतीय पंचांग पर आधारित होती है। परन्तु  इस पर अधिक धार्मिक महत्व होने के कारण 1 जनवरी को ही नए साल का जश्न मनाया जाता है। भारत में पश्चिमी सभ्यता के बढ़ते चलन के कारण नव वर्ष का दिन 1 जनवरी, भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण उत्सव का दिन माना जाता है।

Post a Comment

0 Comments